Connect with us

Ayurvedic

चिरौंजी खाने का तरीका फायदे और नुकसान | Chironji

Published

on

चिरौंजी खाने का तरीका फायदे और नुकसान- Chironji- चिरौंजी छोटे-छोटे दानों वाली होती है जो सूखे फलों की श्रेणी में आती है। चिरौंजी के फल का ऊपरी भाग बहुत कठोर होता है।

जिसे तोड़कर उसके अंदर के बीजों को निकाला जाता है और उन्ही बीजो को चिरौंजी के रूप में प्रयोग किया जाता है। इसका प्रयोग विशेष प्रकार के पकवान बनाने में किया जाता है।

चिरौंजी को इंग्लिश में क्या कहते हैं?

चिरौंजी को इंग्लिश में Chironji या कुड्डापाह आल्मन्ड (Cuddapah almond) कहते है और चिरौंजी का वैज्ञानिक नाम Buchanania lanzan है। इसे और कई नामों से जाना जाता है जैसे- पियाल, प्रियाल या फिर चारोली भी कहा जाता है।

चिरौंजी के पोषक तत्व

इसमें एन्टीसेप्टिक गुण के अलावा बहुत सारे पौष्टिक तत्व पाए जाते है इसलिए इसको खाने से शरीर स्वथ्य रहता है। चिरौंजी की तासीर ठंडी होती है और इसे ज्यादातर गर्मियों में खाया जाता है। और इसके कई सारे औषधीय गुण होते है। चिरौंजी की कीमत लगभग 800 रुपये से लेकर 1200 रुपये तक होती है।

चिरौंजी खाने का तरीका

चिरौजी (Chironji) में प्रोटीन, विटामिन, वसा, कैल्शियम, आयरन, कार्बोहाइड्रेट लिनोलिक, मेलिइक अम्‍ल और अमीनो अम्‍ल जैसे तत्व होते है।

चिरौंजी के पेड़ और फल के उपयोगी भाग

  • चिरौंजी का फल (बीज)
  • चिरौंजी के बीज का तेल
  • चिरौंजी के पेड़ की पत्तियाँ
  • चिरौंजी के पेड़ का गोंद
  • चिरौंजी के पेड़ की जड़
  • चिरौंजी पेड़ के तने की छाल

चिरौंजी खाने का तरीका और चिरौंजी के फायदे

चिरौंजी खाने का तरीका– चिरौंजी में भरपूर मात्रा में विटामिन, प्रोटीन तथा औषधीय गुण होने के कारण इसे एक औषध के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है इसलिए आइये जानते हैं की चिरौंजी खाने का तरीका और चिरौंजी के फायदे क्या होते हैं।

दिमाग के लिए चिरौंजी के फायदे

दिमाग के लिए चिरौंजी के फायदे निम्नलिखित रूप से मिलते हैं क्योंकि चिरौंजी को कच्चा या किसी व्यंजन में मिलाकर खाने से दिमाग की कार्य क्षमता अच्छी हो जाती है और हमारी याददाश्त बढ़ने लगती है। यह बच्चो के लिए बहुत उपयोगी होता है और उनकी पढाई में बहुत मदद करता है। चिरौंजी उनके एकाग्रता और स्मृति शक्ति को मजबूत कर देता है।

चोट लगने पर चिरौंजी के फायदे

शरीर पर किसी प्रकार के चोट लगने पर घाव हो जाता है यदि घाव का इलाज समय पर न हो तो वह बढ़ने लगता है और इसके बढ़ने की वजह छोटे बैक्टीरिया होते है। चिरौंजी में एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-बायोफिल्‍म गुण होते हैं जो इन बैक्टीरिया के प्रभाव से बचाता है। और घाव को बढ़ने से रोकता है।

रोग प्रतिरोधक शक्ति के लिए चिरौंजी खाने का तरीका

रोग प्रतिरोधक शक्ति के लिए चिरौंजी खाने का तरीका– चिरौंजी को पीसकर दूध में मिलाकर पीने से रोग प्रतिरोधक छमता बढ़ती है। चिरौंजी का इस्तेमाल खीर, दलिया, ओट्स आदि में भी किया जा सकता है इससे इम्यून सिस्टम मजबूत रहता है।

चिरौंजी के नियमित प्रयोग से रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ता है इसी वजह से गर्भवती महिला को चिरौंजी का सेवन कराया जाता है। जिससे माँ और होने वाले बच्चे किसी बीमारी से ग्रसित न हो पाए। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए कोई भी इसका नियमित सेवन कर सकता है।

चेहरे के लिए गुणकारी चिरौंजी के फायदे

चिरौंजी को पीसकर उसके लेप को गुलाबजल के साथ मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरा चमकदार और मुलायम हो जाता है। यह दाग धब्बों को भी कम करता है। चिरौंजी में एंटीसेप्टिक गुण होते है जो त्वचा विकार में लाभकारी होते है।

लूज मोशन (दस्त ) के लिए चिरौंजी खाने का तरीका

दस्त की समस्या दूर करने के लिए चिरौंजी खाने का तरीका- दस्त की समस्या दूर करने के लिए चिरौंजी के तेल में बनी खिचड़ी, दलिया तथा ओट्स खिलाने से लूज मोशन की समस्या से राहत मिलती है।

जोड़ो के दर्द के लिए चिरौंजी

चिरौंजी के तेल से जोड़ो और कमर पर मालिश करने से उस जगह होने वाले दर्द से राहत मिलती है। इसके अलावा शरीर पर किसी प्रकार का सूजन होने पर चिरौंजी के तेल से किया गया मसाज बहुत लाभ देता है।

बालों के लिए चिरौंजी चिरौंजी के फायदे

चिरौंजी की पत्तियों को पीसकर बालों में लगाने से यह एक प्राकृतिक कंडीशनर का काम करता है। और यह बालों को चमकदार, मजबूत और मुलायम बनाता है। इसके अलावा चिरौंजी का तेल भी बालों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

सर दर्द में लाभकारी चिरौंजी

चिरौंजी में दर्द नाशक वाले गुण होते है अतः इसके नियमित इस्तेमाल से सर दर्द जैसी समस्या से राहत मिलती है। इसलिए जिनको सर दर्द की समस्या रहती है वो लोग चिरौंजी को अपने भोजन में शामिल कर सकते है।

चिरौंजी के नुकसान

  • चिरौंजी के अधिक सेवन से पेट का पाचन ख़राब हो सकता है और कब्ज तथा दस्त जैसी समस्या हो सकती है।
  • इसके अत्यधिक सेवन से शरीर का ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है।
  • चिरौंजी के ज्यादा खाने से लिवर में सूजन होने की संभावना बनी रहती है।
  • चिरौंजी के अधिक सेवन से दिल की धड़कने बढ़ सकती है।
  • चिरौंजी का तेल के अधिक सेवन से पेशाब की समस्या हो सकती है।

FAQs: About Chironji

चिरौंजी खाने से क्या होता है?

चिरौंजी के नियमित प्रयोग से रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ता है इसी वजह से गर्भवती महिला को चिरौंजी का सेवन कराया जाता है। जिससे माँ और होने वाले बच्चे किसी बीमारी से ग्रसित न हो पाए। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए कोई भी इसका नियमित सेवन कर सकता है।

चिरौंजी कितने रुपए किलो है?

चिरौंजी की कीमत लगभग 800 रुपये से लेकर 1200 रुपये तक होती है।

चिरौंजी चेहरे पर कैसे लगाएं?

चिरौंजी को पीसकर उसके लेप को गुलाबजल के साथ मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरा चमकदार और मुलायम हो जाता है। यह दाग धब्बों को भी कम करता है। चिरौंजी में एंटीसेप्टिक गुण होते है जो त्वचा विकार में लाभकारी होते है।

इस लेख के जरिए हमने आपकों चिरौंजी खाने का तरीका फायदे और नुकसान | Chironji के बारे में बताया है। मुझे आशा है कि आप चिरौंजी खाने का तरीका के बारे में अच्छी तरह जान गए होंगे अगर अभी भी आपको कुछ सवाल पूछना है तो नीचे कमेंट में जरूर लिखें या अपनी राय हमें देना चाहते हैं तो जरूर दीजिए ताकि हम आपके लिए कुछ नया कर सकें और यदि आप इस लेख से संतुष्ट हैं तो अपने दोस्तों को अवश्य शेयर करें।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Recent Posts

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Trending

%d bloggers like this: