Connect with us

Home remedies

kan ke dard ki dawa – कान दर्द की आयुर्वेदिक दवा

Published

on

kan ke dard: कान दर्द की समस्या अगर कभी आपको हो और वह असहनीय पीड़ा में बदले उससे पहले आपको कान दर्द का कारण ,बचाव और आयुर्वेदिक इलाज की पूरी जानकारी ले लेनी चाहिए तो आप इस लेख में जानेंगे कान दर्द के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें।

kan ke dard ki dawa

क्यों? कान दर्द करता है-Why? does ear pain

आयुर्वेद में कान के दर्द को कर्ण शूल कहा गया है यह वात,पित्त और कफ के असन्तुलित होने के कारण हो सकता है अगर आपको कान (kaan) में दर्द होने का कारण पता लग जाए तो आप उसका इलाज भी सही तरीके से कर पाएंगे कान में दर्द होने के कुछ मुख्य कारण है –

कान में गंदगी जमा होने से कान में दर्द होता है।

नहाते समय कान में पानी ,साबुन या शैम्पू चले जाने से भी कान में दर्द होता है।

सर्दी और जुखाम ज्यादा दिनों तक बने रहे तो भी कान का दर्द हो सकता है।

kan ka dard

कान के परदे फटने या कान के पर्दो में छेद होने पर कान का दर्द बढ़ सकता है।

मध्य कान में होने वाला संक्रमण ओटाइटिस मीडिया बच्चों के कान के दर्द का मुख्य कारण होता है।

साइनस के संक्रमण के कारण भी कान का दर्द हो सकता है।

दांतों में बैक्टिरीयल इंफेक्शन होने की वजह से भी कान में दर्द हो सकता है।

kaan ka dard

जबड़े में सूजन की वजह से भी कान का दर्द हो सकता है।

कान में फुंसी होने पर भी कान में दर्द होता है।

कान में किसी कीड़े के घुसने से भी कान में दर्द होता है।

बच्चों के कान (kan)में दर्द का सबसे आम कारण इंफेक्शन होता है।

कान के दर्द से बचने के तरीके

कान दर्द के रोगी को कफ कारक भोजन नहीं करना चाहिये।
किसी तेज वस्तु जैसे- पिन ,पेन या कोई नुकीली वस्तु से कान न साफ करें।
बहुत तेज ध्वनि से बचना चाहिए।
नहाते समय साबुन या पानी को कान में जाने से बचाना चाहिए।
बासी भोजन और जंकफूड बिलकुल न खाएं।

कान के दर्द का घरेलू उपचार – Home Remedies for Ear Pain

आमतौर पर कान का दर्द कान में गन्दगी जमा होने पर बढ़ता है इसलिए कान को हमेशा साफ रखने की कोशिश करना चाहिये और अगर किसी कारण वश कान का दर्द बढ़ जाये तो कुछ घरेलु और आयुर्वेदिक तरीके हैं जिससे कान के दर्द से छुटकारा पा सकते हैं
 

लहसुन की कली – cloves of garlic

kan ke dard ki dawa
लहसुन की 3-4 कली को सरसो के तेल में गरम कर लें और ठंडा होने पर उस तेल को छान कर रख लें और फिर इस तेल की 2-3 बूंदे कान में डालने से कान दर्द से तुरंत रहत मिलता है
 

प्याज का रस- Onion juice

kan ke dard ke liye
1 चम्मच प्याज के रस को हल्का गुनगुना गरम कर के इसकी 2-3 बूंद कान में डालने से कान के दर्द से तुरंत छुटकारा पा सकते हैं।

नीम के पत्ते- Neem Leaf

kan dard

 

नीम पत्तियों के रस की कुछ बूंदे कान में डालने से कान के संक्रमण और दर्द दोनों से राहत मिलती है
 

तुलसी के पत्ते – Basil leaves

kaan ke dard
 कान के दर्द में तुलसी की पत्तियों का रस बहुत फायदेमंद होता हैतुलसी की पत्तियों के रस की कुछ बूंदे कान में डालने से कान का दर्द और कान का संक्रमण दोनों में राहत मिलती है
 
कान का दर्द बहुत ही पीड़ा दायक होता है अगर कान का दर्द ज्यादा बढ़ जाये तो तुरंत किसी चिकित्सक को दिखाए और कान के दर्द के कारणों का पता लगाएं। हमें उम्मीद है यह लेख kan ke dard ki dawa – कान दर्द की आयुर्वेदिक दवा आपको बहुत पसंद आया होगा अगर अभी भी आपको कुछ सवाल पूछना है तो नीचे कमेंट में जरूर लिखें या अपनी राय हमें देना चाहते हैं तो जरूर दीजिए ताकि हम आपके लिए कुछ नया कर सकें और यदि आप इस लेख से संतुष्ट हैं तो अपने दोस्तों को अवश्य शेयर करेंचलो बनाए देश को रोग मुक्त धन्यवाद

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Recent Posts

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Trending

%d bloggers like this: