Connect with us

Home remedies

पेट के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवा का नाम और आयुर्वेदिक इलाज

Published

on

पेट के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवा का नाम और आयुर्वेदिक इलाज के बारे में पूरी जानकारी इस लेख में बताई गई है। पेट में कीड़े (stomach worms) होने के बहुत से लक्षण हमारे शरीर में दिखाई देते हैं और इसका आयुर्वेदिक इलाज भी है। अगर हमारे शरीर में पेट के अंदर कीड़े पड़ जाए जिसे हम फीता कृमि बोलते हैं तो एक तरीके से हमारे शरीर का विकास रुक जाता है और हम तरह-तरह की बीमारियों से घिर जाते है।

पेट के कीड़े

पेट के कीड़े शरीर को बहुत ही कमजोर बना देते हैं क्योंकि हम जो भी खाते हैं उसे यह कीड़े अपना भोजन बना लेते हैं और शरीर को मिलने वाले पोषक तत्व हमारे शरीर को नहीं मिलते हैं जिसके कारण हमें तरह-तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ता है।

पेट के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवा

इसलिए जितना जल्दी हो सके पेट के कीड़ों को शरीर से बाहर निकाल देना चाहिए। पेट के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवा और आयुर्वेदिक दवा दोनों में से किसी एक का उपयोग करके पेट के कीड़ों से छुटकारा पाया जा सकता है। तो आइये जानते हैं पेट के कीड़े या फीता कृमि (stomach worms) का आयुर्वेदिक और अंग्रेजी इलाज क्या है।

पेट में कीड़े होने के कारण

पेट में कीड़े होने के कारण कई कारण हो सकते हैं जैसे-

  • गंदा पानी पीने की वजह से।
  • कमजोर इम्यूनिटी की वजह से।
  • खाने में साफ-सफाई का ध्यान न रखने की वजह से।
  • घर के आस-पास गंदगी भरा माहौल का होना।

पेट में कीड़े होने के लक्षण

पेट में कीड़े होने के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं आइये जानते हैं की पेट में कीड़े होने के क्या लक्षण होते हैं।

  • मांस पेशियां और जोड़ों में दर्द होना।
  • हमेशा थकान महसूस करना।
  • त्वचा पर चकत्ते या एक्जिमा होना।
  • रात को सोने में परेशानी होना नींद का बार बार टूटना।
  • पाचन से संबंधित परेशानियां होना।
  • खून की कमी होना।
  • हमेशा कब्ज रहना पेट में गैस बनना खाने के बाद भी भूख लगना।
  • त्वचा पर रैशेज और एलर्जी होना।
  • मुँह से हर समय दुर्गन्ध आती है।

क्योंकि हम जो भी भोजन करते हैं यह कीड़े उनसे मिलने वाले प्रोटीन विटामिन को चूस लेते हैं और यह हमारे आंतों की परतों से खून चूसते हैं जिससे हमारे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। पेट में कीड़े (stomach worms) होने के यह मुख्य लक्षण है।

बच्चों के पेट में कीड़े होने के मुख्य लक्षण –

यह कीड़े ज्यादातर बच्चों में पाए जाते हैं बच्चों के पेट में दर्द रहना और रात को सोते समय मुंह से लार निकलती है और तकिया गीला हो जाता है त्वचा पर चकत्ते पड़ जाते हैं और रात को सोते समय बच्चों का दांत पीसना यह बच्चों के पेट में कीड़े होने के मुख्य लक्षण होते है।  

पेट के कीड़ों के प्रकार

पेट में कीड़े कई प्रकार के होते हैं-

FlatwormsFlukes, Tapewormटेपवर्म या फीता कृमि, फ्लूक
RoundwormsAscariasis, pinworm, hookwormएस्कारियासिस, पिनवर्म, हुकवर्म

इन्हें हम आंतों के कीड़े या परजीवी कीड़े के नाम से भी जानते हैं इनमें से हम कुछ कीड़ों को अपने मल में देख सकते हैं और कुछ कीड़े तो ऐसे होते हैं कि उनके लिए लेंस लगाने की जरूरत पड़ती है जिनको सीधी आंखों से नहीं देख सकते है।

पेट के कीड़े मारने की आयुर्वेदिक दवा

हमारे पेट में कीड़े हो जाते हैं तो हम पेट के कीड़े मारने वाली दवा खा लेते हैं और हम सोचते हैं कि हमारे पेट से सारे कीड़े बाहर निकल गए या मर गए लेकिन पेट के कीड़े मारने की दवा से कुछ ही प्रकार के कीड़े मरते हैं हमें पेट में कीड़े का जड़ से इलाज करने के लिए कुछ आयुर्वेदिक दवाओं का सेवन करना पड़ेगा जो इस प्रकार से है।  

7 साल से नीचे के बच्चों के लिए

No.दवा का नामmedicine nameमात्रा
1.विदंगासव या  विदंगारिस्टVidangasava or Vidangarishtaएक चम्मच
2.अर्विन्दासवArvindasavएक चम्मच
3.क्रिमिकुथार रसKrumikuthar Rasa एक टेबलेट

7 से 14 साल तक के बच्चों के लिए

No.दवा का नामmedicine nameमात्रा
1.विदंगासव या  विदंगारिस्टVidangasava or Vidangarishtaदो  चम्मच
2.अर्विन्दासवArvindasavदो  चम्मच
3.क्रिमिकुथार रसKrumikuthar Rasa एक टेबलेट

14 साल से ऊपर के लिए

No.दवा का नामmedicine nameमात्रा
1.विदंगासव या  विदंगारिस्टVidangasava or Vidangarishtaतीन से चार चम्मच
2.अर्विन्दासवArvindasavतीन से चार चम्मच
3.क्रिमिकुथार रसKrumikuthar Rasa एक टेबलेट

सुबह और शाम भोजन करने के बाद इन आयुर्वेदिक दवाइयों का सेवन एक से डेढ़ महीने तक करें फिर 1 महीने के लिए  इन आयुर्वेदिक दवाइयों का सेवन बंद कर दे और फिर से एक से डेढ़ महीने तक इन आयुर्वेदिक दवाइयों का सेवन करें और  ऐसा करने से पेट में कीड़े की शिकायत से हमेशा के लिए छुटकारा मिल सकता है।  

चेतावनी-

बच्चों को दवा देने से पहले आयुर्वेदिक डॉक्टर से अवश्य मिले ।   

पेट के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवा

पेट के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवा का नाम एल्बेंडाजोल 400mg टैबलेट (Albendazole) है। यह एक एंटीपैरासिटिक दवा है जिसे पैरासिटिक वर्म संक्रमण के इलाज के लिए इस्‍तेमाल किया जाता है। यह संक्रमण फैलाने वाले कृमियों को मारकर संक्रमण को फैलने से रोकता है।

एल्बेंडाजोल 400mg टैबलेट का इस्तेमाल अपने डॉक्टर के परामर्श के बिना करना शरीर के लिए नुकसान साबित हो सकता है इसलिए इसका इस्तेमाल अपने डॉक्टर की राय लेकर ही करें।

पेट के कीड़े मारने के कुछ घरेलू उपाय

पेट के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवा अगर आप नहीं ले सकते हैं तो निचे बताये गए कुछ घरेलु नुस्खे से आप आसानी से पेट के कीड़ों से छुटकारा पा सकते हैं।

आडू के पत्ते आडू के पत्तियों का रस निकालें और इसकी 1-2 ml मात्रा बच्चों को पिलाएं। यह पेट के कीड़ों को खत्म करने का एक कारगर घरेलू उपाय है।
लाल टमाटर2-3 पके हुए लाल टमाटर हफ्ते में दो-तीन बार काला नमक मिलाकर खिलाएं बच्चों  के पेट में कीड़े के लिए एक कारगर घरेलू उपाय है।
नीम के पत्तेनीम के पत्तों में एंटी-बैक्टिरीयल होते हैं नीम के पत्तों को पीसकर इसमें शहद लगाकर पीने से पेट के कीड़े मर जाते है।

पेट में कीड़े होने का लक्षण और उपचार | Swami Ramdev

FAQs: About stomach worms

पेट में कीड़े पड़ जाए तो क्या करना चाहिए?

नीम के पत्तों में एंटी-बैक्टिरीयल होते हैं नीम के पत्तों को पीसकर इसमें शहद लगाकर पीने से पेट के कीड़े मर जाते है।

कीड़े की दवा कब खाना चाहिए?

सुबह और शाम भोजन करने के बाद विडंगासव, अरविन्दासव, क्रिमिकुथार रस का सेवन करने से पेट के कीड़े ख़त्म हो जाते हैं।

पेट में कीड़े होने का लक्षण क्या है?

मुँह से हर समय दुर्गन्ध आती है। हमेशा कब्ज रहना पेट में गैस बनना खाने के बाद भी भूख लगना। त्वचा पर चकत्ते या एक्जिमा होना। पेट में कीड़े होने के लक्षण हो सकते हैं।

पेट में कीड़े पड़ने का क्या कारण है?

गंदा पानी पीने की वजह से। कमजोर इम्यूनिटी की वजह से। खाने में साफ-सफाई का ध्यान न रखने की वजह से। यह सब पेट में कीड़े पड़ने के कारण होते हैं।

इस लेख के जरिए हमने आपकों पेट के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवा का नाम और आयुर्वेदिक इलाज के बारे में बताया है। मुझे आशा है कि आप पेट के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवा का नाम के बारे में अच्छी तरह जान गए होंगे अगर अभी भी आपको कुछ सवाल पूछना है तो नीचे कमेंट में जरूर लिखें या अपनी राय हमें देना चाहते हैं तो जरूर दीजिए ताकि हम आपके लिए कुछ नया कर सकें और यदि आप इस लेख से संतुष्ट हैं तो अपने दोस्तों को अवश्य शेयर करें।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Recent Posts

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Trending

%d bloggers like this: